ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? What is Option Trading in Hindi

Table of Contents

Option Trading Kya hai? Option trading kaise shuru kare

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है हमारी इस नयी पोस्ट में।आज हम जानेंगे ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? (What is Option Trading) समझिये आसान भाषा में।

कोरोना के बाद ऑप्शन ट्रेडिंग बहुत ही तेजी से पॉपुलर हुई है। नार्मल ट्रेडिंग के मुकाबले ऑप्शन ट्रेडिंग थोड़ी काम्प्लेक्स है लेकिन हम आपको बहुत ही आसान भाषा में बताएंगे की ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे शुरू करें।

ऑप्शन ट्रेडिंग के मूल सिद्धांतों, इसके तकनीक, रणनीतियों और आवश्यक चीज़ो के बारे में जानेंगे कि क्या यह स्टॉक ट्रेडिंग से बेहतर विकल्प है। चाहे आप नौसिखिया हों या अनुभवी निवेशक, यह मार्गदर्शिका आपको आत्मविश्वास के साथ ऑप्शन ट्रेडिंग की दुनिया में प्रवेश करने में मदद करेगी।

आज के समय में, ऑप्शन ट्रेडिंग की मूल बातें समझना एक मूल्यवान कौशल है जो Income के नए रास्ते खोल सकता है। चाहे आप एक अनुभवी निवेशक हों या Trading की दुनिया में नए हों, यह Guide ऑप्शन ट्रेडिंग की अवधारणा को उजागर करेगी और आपको इसके मूलभूत सिद्धांतों को समझने में मदद करेगी।

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है और यह कैसे काम करती है?

ऑप्शन ट्रेडिंग एक Financial Strategy है जो निवेशकों को एक निर्धारित समय सीमा के भीतर पूर्व निर्धारित मूल्य पर एक विशिष्ट संपत्ति खरीदने या बेचने का अधिकार देती है, लेकिन दायित्व नहीं। यह Financial Instrument बहुत सारे अवसर प्रदान करता है, जिससे Traders को Price Movements का अनुमान लगाने, अपनी मौजूदा स्थिति को हेज करने और अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने की अनुमति मिलती है।

आप कॉल ऑप्शन खरीद भी सकते है और बेच भी सकते हो। ऐसी तरह आप पूत ऑप्शन खरीद भी सकते है और बेच भी सकते हो।

कॉल और पुट ऑप्शन क्या हैं? (What are Call and Put Options)

ऑप्शन ट्रेडिंग में गहराई से उतरने से पहले, इसके पीछे की तकनीक को समझना महत्वपूर्ण है। ऑप्शन अनुबंध Option Contracts में दो मुख्य प्रकार होते हैं: कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन

What is Call and Put in option trading?

कॉल ऑप्शन (Call Option)

एक Call Option Holder निर्दिष्ट समाप्ति तिथि (Expiry Date) से पहले एक अंतर्निहित परिसंपत्ति (Underlying Asset) को पूर्व निर्धारित मूल्य पर खरीदने का अधिकार प्रदान करता है, जिसे स्ट्राइक प्राइस के रूप में जाना जाता है। निवेशक अक्सर कॉल ऑप्शन का उपयोग तब करते हैं जब उन्हें लगता है कि किसी परिसंपत्ति Asset की कीमत बढ़ेगी।

पुट ऑप्शन (Put Option)

इसके विपरीत, एक पुट ऑप्शन धारक को समाप्ति तिथि (Expiry Date) से पहले स्ट्राइक मूल्य पर अंतर्निहित परिसंपत्ति को बेचने का अधिकार देता है। पुट ऑप्शन तब नियोजित किए जाते हैं जब निवेशक अंतर्निहित परिसंपत्ति (Underlying Asset) की कीमत में गिरावट की उम्मीद करते हैं।

ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीतियाँ (Option Trading Strategies)

ऑप्शन ट्रेडिंग सभी के लिए एक ही आकार में फिट होने वाला दृष्टिकोण नहीं है। Traders अपने वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए विभिन्न रणनीतियाँ (Strategies) अपनाते हैं, जिनमें शामिल हैं:

1. कवर्ड कॉल (Covered Call)

इस रणनीति में किसी परिसंपत्ति में लंबी स्थिति बनाए रखना और साथ ही उसी परिसंपत्ति पर कॉल विकल्प लिखना शामिल है। यह कॉल ऑप्शन बेचने से प्राप्त प्रीमियम के माध्यम से आय का एक स्रोत प्रदान करता है।

2. Protective Put

निवेशक अपने पोर्टफोलियो को संभावित नुकसान से बचाने के लिए Protective Put का उपयोग करते हैं। पुट ऑप्शन खरीदकर, वे अपनी Upside Potential को बनाए रखते हुए अपने नकारात्मक जोखिम (Downside Risk) को सीमित कर सकते हैं।

3. Straddle

स्ट्रैडल में समान स्ट्राइक मूल्य और समाप्ति तिथि (Expiry Date) के साथ कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन दोनों खरीदना शामिल है। Traders इस रणनीति का उपयोग तब करते हैं जब वे significant price volatility की उम्मीद करते हैं लेकिन movement की दिशा के बारे में अनिश्चित होते हैं।

4. आयरन कोंडोर (Iron Condor)

आयरन कोंडोर रणनीति दो क्रेडिट स्प्रेड को जोड़ती है: एक बियर कॉल स्प्रेड और एक बुल पुट स्प्रेड। ऑप्शन प्रीमियम से आय उत्पन्न करने के लिए इसे स्थिर बाज़ारों में नियोजित किया जाता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग और स्टॉक ट्रेडिंग में अंतर

अब जब हमने ऑप्शन ट्रेडिंग के मूल सिद्धांतों का पता लगा लिया है, तो आइए एक सामान्य प्रश्न पर ध्यान दें: क्या ऑप्शन ट्रेडिंग स्टॉक से बेहतर है? इसका उत्तर देने के लिए, हमें ऑप्शन और स्टॉक दोनों के विभिन्न पहलुओं पर विचार करना होगा।

Risk and Reward

ऑप्शन ट्रेडिंग एक अद्वितीय जोखिम-इनाम प्रोफ़ाइल प्रदान करता है। जबकि महत्वपूर्ण लाभ की संभावना मौजूद है, विकल्पों के परिणामस्वरूप पर्याप्त नुकसान भी हो सकता है। दूसरी ओर, स्टॉक किसी कंपनी में स्वामित्व प्रदान करते हैं, और उनका मूल्य कंपनी के प्रदर्शन से जुड़ा होता है।

Leverage

ऑप्शन ट्रेडिंग का एक विशिष्ट लाभ लीवरेज है। अपेक्षाकृत छोटे निवेश के साथ, व्यापारी अधिक महत्वपूर्ण स्थिति को नियंत्रित कर सकते हैं। इससे मुनाफ़ा बढ़ सकता है लेकिन घाटा भी बढ़ सकता है।

Flexibility

ऑप्शन high flexibility प्रदान करते हैं। Traders तेजी, मंदी और Neutral Scenerio सहित विभिन्न बाजार स्थितियों से लाभ कमाने के लिए रणनीतियाँ बना सकते हैं। इसके विपरीत, स्टॉक रिटर्न के लिए बाजार की सराहना पर निर्भर रहते हैं।

Time Horizon

ऑप्शन expiry dates के साथ आते हैं, जिससे traders को समय का ध्यान रखना पड़ता है। स्टॉक निवेश की आम तौर पर कोई निश्चित समाप्ति नहीं होती है, जिससे निवेशकों को उन्हें अनिश्चित काल तक रखने की अनुमति मिलती है।

क्या ऑप्शन ट्रेडिंग स्टॉक ट्रेडिंग से बेहतर है?

ऑप्शन और स्टॉक ट्रेडिंग दोनों की अपनी खूबियाँ हैं, यह निर्धारित करना कि कौन सा बेहतर है, आपके वित्तीय लक्ष्यों, जोखिम सहनशीलता और ट्रेडिंग प्राथमिकताओं पर निर्भर करता है। यहां कुछ प्रमुख विचार दिए गए हैं:

1. जोखिम सहनशीलता (Risk Tolerence)

– यदि आपके पास उच्च जोखिम सहनशीलता है और संभावित रूप से उच्च रिटर्न चाहते हैं, तो विकल्प ट्रेडिंग आकर्षक हो सकती है।
– स्टॉक ट्रेडिंग कम अस्थिर होती है और कम जोखिम उठाने की क्षमता वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त हो सकती है।

2. Investment Horizon

– ऑप्शन अक्सर उनकी Expiry date के कारण short-term strategies के लिए उपयोग किए जाते हैं।
– स्टॉक को लंबी अवधि के लिए रखा जा सकता है, जिससे वे अधिक extended investment horizon वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त हो जाते हैं।

3. Strategy Complexity

– उपलब्ध विभिन्न रणनीतियों के कारण ऑप्शन ट्रेडिंग में सीखने की प्रक्रिया तेज होती है।
– स्टॉक ट्रेडिंग, विशेष रूप से दीर्घकालिक निवेश (Long term investment), अपेक्षाकृत सरल है।

4. Diversification

– ऑप्शन का उपयोग पोर्टफोलियो में विविधता लाने और जोखिम प्रबंधन के लिए किया जा सकता है।
– स्टॉक ट्रेडिंग diversification भी प्रदान कर सकती है लेकिन यह स्टॉक चयन पर निर्भर करता है।

5. Capital Requirements

– Leverage के कारण ऑप्शन ट्रेडिंग में कम Initial Capital की आवश्यकता हो सकती है।
– स्टॉक ट्रेडिंग के लिए आमतौर पर अधिक पर्याप्त प्रारंभिक निवेश की आवश्यकता होती है।

निष्कर्षतः, न तो ऑप्शन ट्रेडिंग और न ही स्टॉक ट्रेडिंग स्वाभाविक रूप से बेहतर है। यह आपकी व्यक्तिगत वित्तीय स्थिति, उद्देश्यों और जोखिम सहनशीलता (Risk Tolerence) पर निर्भर करता है।

ऑप्शन ग्रीक क्या हैं? आइये समझते हैं (What are Option Greeks)

What is Option Greeks?

ऑप्शन ग्रीक महत्वपूर्ण Elements का एक समूह है जो आपको यह समझने में मदद करता है कि विभिन्न Elements के जवाब में Option Contract की कीमत कैसे बदल सकती है। यह एक टूल की तरह है जो ऑप्शन ट्रेडिंग को समझने में मदद करता है। यहां मुख्य Option Greeks की आसान परिभाषा दी गयी है –

1. डेल्टा (Δ) Delta

– डेल्टा आपको बताता है कि Asset की कीमत में $1 के बदलाव के जवाब में Option की कीमत कितनी बदल सकती है।
– यदि डेल्टा 0.5 है, तो इसका मतलब है कि किसी Asset 1 पॉइंट बढ़ने पर Option की कीमत 0.50 पॉइंट तक बढ़ सकती है।
– कॉल ऑप्शन में सकारात्मक डेल्टा होता है, जबकि पुट ऑप्शन में नकारात्मक डेल्टा होता है।

2. थीटा (Θ) Theta

– थीटा मापता है कि समय बीतने के साथ ऑप्शन की कीमत कितनी बदल सकती है।
– यह दर्शाता है कि प्रत्येक दिन ऑप्शन का मूल्य कितना कम हो सकता है, जिसे Time Decay के रूप में जाना जाता है।
– कोई ऑप्शन अपनी Expiry date के जितना करीब होगा, उसकी थीटा उतनी ही अधिक होगी।

3. गामा (Γ) Gamma

– गामा दर्शाता है कि किसी Asset की कीमत बढ़ने पर डेल्टा कितनी तेजी से बदल सकता है।
– यह एक स्पीडोमीटर की तरह है, जो आपको बताता है कि डेल्टा कितनी तेजी से बढ़ या घट सकता है।
– उच्च गामा वाले ऑप्शन बड़े डेल्टा परिवर्तनों का अनुभव कर सकते हैं।

4. वेगा (ν) Vega

– वेगा मापता है कि Volatility में बदलाव के साथ ऑप्शन की कीमत कितनी बदल सकती है।
– यह आपको यह समझने में मदद करता है कि बाजार की अस्थिरता में बदलाव के प्रति ऑप्शन कितना संवेदनशील है।
– उच्च वेगा का मतलब है कि विकल्प की कीमत अस्थिरता बदलाव के साथ और अधिक बदल सकती है।

5. Rho (ρ)

– Rho आपको बताता है कि ब्याज दरों में बदलाव के साथ ऑप्शन की कीमत कितनी बदल सकती है।
– इसका उपयोग आमतौर पर अन्य Greeks की तरह नहीं किया जाता है क्योंकि ब्याज दर में बदलाव का आमतौर पर स्टॉक या अस्थिरता की तुलना में Options पर कम प्रभाव पड़ता है।

सरल शब्दों में, ऑप्शन ग्रीक आपके Options के लिए मौसम के पूर्वानुमान की तरह हैं जो आपको यह अनुमान लगाने में मदद करते हैं कि आपके ऑप्शन Asset की कीमत, समय बीतने, अस्थिरता और ब्याज दरों में बदलाव पर कैसे प्रतिक्रिया देंगे। इन Greeks को समझने से आपको ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय सही निर्णय लेने और अपने Risk को प्रभावी ढंग से Manage करने में मदद मिल सकती है।

ऑप्शन चैन क्या है? हम इसका Analysis कैसे कर सकते हैं?

कल्पना कीजिए कि आप पिज़्ज़ा की दुकान में हैं और मेनू देख रहे हैं। मेनू विभिन्न प्रकार के पिज़्ज़ा को उनकी टॉपिंग, आकार और कीमतों के साथ सूचीबद्ध करता है। यह मेनू Finance की दुनिया में “Option Chain” के समान है।

What is Option Chain?
Option Chain Example

अब, आइए देखें कि आप इस “ऑप्शन चैन” का विश्लेषण कैसे कर सकते हैं, जैसे आप पिज़्ज़ा मेनू को देखते हैं:

1. ऑप्शन नाम: ऑप्शन चैन में, आपको “कॉल ऑप्शन” और “पुट ऑप्शन” जैसे नाम दिखाई देंगे। इन्हें मेनू पर विभिन्न प्रकार के पिज्जा की तरह समझें। “कॉल ऑप्शन” विशेष टॉपिंग वाले पिज्जा की तरह है, और “पुट ऑप्शन” अपनी अनूठी विशेषताओं के साथ एक अन्य प्रकार का पिज्जा है।

2. ऑप्शन प्राइस: प्रत्येक ऑप्शन नाम के आगे, आपको एक कीमत दिखाई देगी, ठीक वैसे ही जैसे आप मेनू पर प्रत्येक पिज्जा की कीमत देखते हैं। यह कीमत आपको बताती है कि उस ऑप्शन को खरीदने में कितना खर्च आएगा।

3. स्ट्राइक प्राइस: ऑप्शन में कुछ “स्ट्राइक प्राइस” होता है, जो आपके पिज्जा का आकार चुनने जैसा है। आप अलग-अलग स्ट्राइक मूल्य सूचीबद्ध देखेंगे, जैसे 100, 110, या 120। ये स्ट्राइक कीमतें आपके ऑप्शन का “आकार” निर्धारित करती हैं और इसकी कीमत को प्रभावित कर सकती हैं।

4. समाप्ति तिथियाँ (Expire Date): प्र्त्येक ऑप्शन की एक एक्सपायरी डेट होती है, उस तारीख के बाद में वह ऑप्शन उपलब्ध नहीं होत। यह तारीख आपको बताती है कि आपका ऑप्शन कब Expire होगा। आप ऑप्शन चैन में सूचीबद्ध विभिन्न Expiry Dates देखेंगे।

5. ओपन इंटरेस्ट (ऑर्डर की संख्या): ऑप्शन चैन आपको यह भी दिखा सकती है कि कितने लोगों ने पहले से ही किसी विशेष ऑप्शन का ऑर्डर दिया है। यह, यह देखने के समान है कि पिज़्ज़ा की दुकान पर एक निश्चित प्रकार के कितने पिज़्ज़ा का ऑर्डर दिया गया है। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वह ऑप्शन कितना लोकप्रिय है।

6. Volume (ऑप्शन की संख्या): ऑप्शन चैन में Volume इस प्रकार है कि पिज़्ज़ा की दुकान आज कितने पिज़्ज़ा बना रही है। यह आपको बताता है कि किसी दिए गए दिन में कितने ऑप्शन पर Trade किया गया है।

आइये जानते है ऑप्शन चैन का अनालिसिस कैसे करते है –

– विभिन्न ऑप्शन (कॉल और पुट) और उनकी कीमतों को देखकर Decide करें कि कौन सा आपकी आवश्यकताओं के अनुरूप है।
– अपनी ट्रेडिंग रणनीति के आधार पर अपने ऑप्शन का “आकार” चुनने के लिए Strike Price जांच करें।
– यह तय करने के लिए कि आप अपने ऑप्शन को कब वैध बनाना चाहते हैं, Expiry date पर विचार करें।
– अन्य ट्रेडर्स के बीच कोई विशेष ऑप्शन कितना सक्रिय और लोकप्रिय है, यह देखने के लिए ओपन इंटरेस्ट और वॉल्यूम पर ध्यान दें।

इसलिए, ऑप्शन चैन का विश्लेषण करना आपके स्वाद, आकार और बजट के अनुरूप पिज़्ज़ा चुनने के लिए पिज़्ज़ा मेनू को देखने जैसा है। यह ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय आपको सही निर्णय लेने में मदद करता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग कहाँ से सीखे

ऑप्शन ट्रेडिंग सीखना एक पुरस्कृत प्रयास हो सकता है, लेकिन Options की दुनिया में उतरने से पहले इसका एक ठोस आधार बनाना आवश्यक है। ऑप्शन ट्रेडिंग सीखने के लिए यहां कुछ विश्वसनीय स्रोत और तरीके दिए गए हैं:

ऑप्शन ट्रेडिंग फ्री कोर्स (Option Trading Free Course)

क्या आप ऑप्शन ट्रेडिंग की दुनिया में उतरने के लिए उत्सुक हैं? हमारे ऑप्शन ट्रेडिंग फ्री कोर्स में नामांकन करने पर विचार करें। यह कोर्स आपको ऑप्शन ट्रेडिंग की जटिल दुनिया में सफल होने के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल प्रदान करेगा।

ऑप्शन ट्रेडिंग निःशुल्क ई-बुक (Option Trading Free E-book)

यदि आप अपनी गति और समय से सीखना पसंद करते हैं, तो हमारी ऑप्शन ट्रेडिंग फ्री ई-बुक एक मूल्यवान संसाधन है। इसमें आवश्यक अवधारणाओं और रणनीतियों को शामिल किया गया है, जो इसे New Traders के लिए एक आदर्श बनाता है।

FAQs

Q1: ऑप्शन ट्रेडिंग का प्राथमिक लक्ष्य क्या है?

A1: ऑप्शन ट्रेडिंग का प्राथमिक लक्ष्य Underlying Assets में मूल्य में उतार-चढ़ाव से लाभ कमाना है, चाहे संभावना, हेजिंग या income generation के माध्यम से।

Q2: क्या मैं ऑप्शन ट्रेडिंग में अपने Initial Capital से अधिक खो सकता हूँ?

A2: हां, ऑप्शन ट्रेडिंग में आपके प्रारंभिक निवेश से अधिक खोने का जोखिम होता है, खासकर जब naked या complex strategies का उपयोग किया जाता है।

Q3: क्या ऑप्शन ट्रेडिंग शुरुआती लोगों के लिए उपयुक्त है?

A3: ऑप्शन ट्रेडिंग जटिल हो सकती है, इसलिए शुरुआती लोगों को बुनियादी बातों की समझ के साथ शुरुआत करनी चाहिए और मूलभूत शिक्षा लेने पर विचार करना चाहिए।

Q4: क्या स्टॉक ट्रेडिंग से जुड़े जोखिम हैं?

A4: स्टॉक ट्रेडिंग आम तौर पर ऑप्शन ट्रेडिंग की तुलना में कम जोखिम भरा होता है, फिर भी इसमें बाजार जोखिम, कंपनी-विशिष्ट जोखिम और नुकसान की संभावना होती है।

Q5: मैं ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में और अधिक कैसे जान सकता हूं?

A5: ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में अपने ज्ञान को गहरा करने के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग फ्री कोर्स में दाखिला लेने या हमारे ऑप्शन ट्रेडिंग फ्री ई-बुक जैसे संसाधनों पर विचार करें।

Share this:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top